Sunday, February 25th, 2024 Login Here
गरीब के जीवन से कष्टों को मिटाना प्रदेश सरकार का लक्ष्य-डॉ यादव चिकित्सक पर हुई कार्रवाहीं का डाक्टरों व सिंधी समाज ने किया विरोध किरायेदारों से अनजान पुलिस, मकान मालिक भी लापरवाह नवनिर्वाचित राज्यसभा सांसद बंशीलाल जी गुर्जर का मंदसोर शहर में होगा भव्य स्वागत ट्रक में लहसुन के नीचे छुपाकर रख 1031 किलो डोडाचूरा जब्त, ड्राइवर गिरफ्तार मुख्‍यमंत्री डॉ.मोहन यादव आज नीमच में 752 करोड से अधिक के कार्यो का लोकार्पण एवं भूमिपूजन करेंगे 36 घंटे में पुलिस ने किया अन्तरॉज्जीय लूटेरों को गिरफ्तार मदिरा दुकानों के नवीनीकरण आवेदन 22 फरवरी तक करें पांच साल के इंतजार के बाद आज से मंदसौर में प्रारंभ होगा पासपोर्ट कार्यालय मध्यप्रदेश से राज्यसभा के पांचों प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित; 4 सीट बीजेपी, एक कांग्रेस के खाते में 133 किमी लंबे मार्ग में 14 किमी लंबा दूसरा रेलवे ट्रैक तैयार साँप भगाने के लिए टैंक में पेट्रोल डाला, तीली जलाते ही धमाका हुआ, दम्पत्ति झुलसे नदियॉ को छलनी करने का खेल चल रहा,माफियाओं पर नही लग पा रही नकेल सिंगिग स्टार बनने के चक्कर मे लोग हो रहे शिकार संसद रत्न पुरस्कार से सम्मानित होने वाले सांसदों को राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ने बधाई दी

सुरेश राठौर ने उदयपुर में दिया अपना प्लाज्मा
मंदसौर जनसारंगी।

पहले खुद कोरोना पॉजीटिव हुए उसके बाद पूरा परिवार ही कोरोना की जद में आया और कोरोना को मात देकर सभी स्वस्थ्य हो चूके है लेकिन कोरोना को हराने के बाद मंदसौर के टेक्सी मालिक सुरेश राठौर ने दूसरों का जीवन बचाने की ठान ली और इसी उद्देश्य से उदयपुर में अपना प्लाज्मा डोनेट किया और एक व्यक्ति का जीवन बचाया।
मंदसौर के ही रहने वाले एक व्यक्ति का रिश्तेदार उदयपुर में कोरोना से जंग लड रहा है उसे तत्काल प्लाज्मा की आवश्यकता थी। जब मंदसौर के रहने वाले रिश्तेदार ने सुरेश राठौर से इसकी चर्चा की तो उन्होंने तत्काल उदयपुर जाकर युवक की जान बचाने की ठान ली और तत्काल उदयपुर पहुंचे ओर कोरोना से संघर्ष कर रहे व्यक्ति की जान बचाई। चिकित्सकों के अनुसार कोरोना से ठीक हुए मरीज के प्लाज्मा और आम इंसान के प्लाज्मा में फर्क यह होता है कि जब मरीज ठीक हो जाता है तो उसमें एंटीबॉडी बनते है,ये एंटीबॉडी दूसरे कोरोना संक्रमित के काम आते है, जो वायरस को नष्ट करते है।कोरोना वायरस ने तमाम दूनिया को अपनी चपेट में ले लिया है। दूनिया के कई मुल्क जहां इस वायरस से अब धीरे-धीरे मुक्त हो रहे है वहीं भारत में ये अब भी तेजी से फैल रहा है लेकिन कोरोना वेक्सिन अब तक नहीं है ऐसे में कुछ मरीजों से प्लाज्मा थेरेपी का इस्तेमाल किया जा रहा है। इसके सुखद परिणाम भी सामने आ रहे है।
प्लाज्मा डोनेट करने वाले सुरेश राठौर ने बताया कि मंदसौर के ही एक व्यक्ति ने उन्हें  उसके एक रिश्तेदार के उदयपुर के गीताजंली हॉस्पिटल में कोरोना का इलाज कराने की बात कहीं जिसे प्लाज्मा की आवश्यकता थी। इस पर राठौर तत्काल तैयार हो गये और उदयपुर के  सिविल हॉस्पिटल की प्लाज्मा लेबोरेटरी में अपना टेस्ट कराया। सब कुछ ठीक होने से उन्होंने तत्काल अपना प्लाज्मा दान कर दिया जो गीताजंली अस्पताल में भर्ती व्यक्ति को चढाया गया जिसके बाद व्यक्ति की हालत में भी सुधार होने लगा है।राठौर ने अपील करते हुए कहा कि हर कोरोना वैश्विक महामारी है जिसकी चपेट में कोई भी आ सकता है इसलिये जितना हो सके दूसरो की मदद अवश्य करनी चाहिए।
उल्लेखनिय है कि करीब ढाई महिने पहले सुरेश राठौर सबसे पहले कोरोना संक्रमित हुए थे उनके बाद परिवार में उनकी माताजी, पत्नि और दो बच्चें भी संक्रमित पाए गये थें। पांचों का उपचार मंदसौर कोविड सेंटर पर हुआ और स्वस्थ्य होकर सभी घर आ चूके है।
कैसे होता है प्लाज्मा का इस्तेमाल
चिकित्सकों के अनुसार ब्लड में तीन कंपोनेट्स होते है। रेड ब्लड सेल्स(लाल रक्त कोशिका)प्लेटलेट्स और प्लाज्मा । पूरे शरीर  का 55 फीसदी प्लाज्मा होता हैं। ब्लड में उपरी पीला तरल पदार्थ होता है वो प्लाज्मा होता है जो हर इंसान के अंदर पाया जाता हैं। जो व्यक्ति कोरोना से ठीक हो जाता है उसके शरीर में एंटीबॉडी बनते है जो दूसरे संक्रमित व्यक्ति के काम आते और वायरस को नष्ट करते है। जब कोरोना संक्रमित रहे शख्स से ब्लड लिया जाता है तो मशीन से फिल्टर कर ब्लड प्लाज्मा रेड ब्लड सेल्स और प्लेटलेटस को अलग कर दिया जाता है। रेड ब्लड सेल्स और प्लेटलेटस उसी व्यक्ति के शरीर मे ंवापस डाल दिया जाता है जिसने प्लाज्मा दान किया और प्लाज्मा को स्टोर कर लिया जाता है।
Chania