Sunday, February 25th, 2024 Login Here
गरीब के जीवन से कष्टों को मिटाना प्रदेश सरकार का लक्ष्य-डॉ यादव चिकित्सक पर हुई कार्रवाहीं का डाक्टरों व सिंधी समाज ने किया विरोध किरायेदारों से अनजान पुलिस, मकान मालिक भी लापरवाह नवनिर्वाचित राज्यसभा सांसद बंशीलाल जी गुर्जर का मंदसोर शहर में होगा भव्य स्वागत ट्रक में लहसुन के नीचे छुपाकर रख 1031 किलो डोडाचूरा जब्त, ड्राइवर गिरफ्तार मुख्‍यमंत्री डॉ.मोहन यादव आज नीमच में 752 करोड से अधिक के कार्यो का लोकार्पण एवं भूमिपूजन करेंगे 36 घंटे में पुलिस ने किया अन्तरॉज्जीय लूटेरों को गिरफ्तार मदिरा दुकानों के नवीनीकरण आवेदन 22 फरवरी तक करें पांच साल के इंतजार के बाद आज से मंदसौर में प्रारंभ होगा पासपोर्ट कार्यालय मध्यप्रदेश से राज्यसभा के पांचों प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित; 4 सीट बीजेपी, एक कांग्रेस के खाते में 133 किमी लंबे मार्ग में 14 किमी लंबा दूसरा रेलवे ट्रैक तैयार साँप भगाने के लिए टैंक में पेट्रोल डाला, तीली जलाते ही धमाका हुआ, दम्पत्ति झुलसे नदियॉ को छलनी करने का खेल चल रहा,माफियाओं पर नही लग पा रही नकेल सिंगिग स्टार बनने के चक्कर मे लोग हो रहे शिकार संसद रत्न पुरस्कार से सम्मानित होने वाले सांसदों को राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ने बधाई दी

सीतामऊ में मिले चार मरीज, मच्छरों को खत्म करने के लिए चलाया सफाई अभियान
सीतामऊ जनसारंगी।
कोरोना की दूसरी लहर भी थम चूकी है। मंदसौर में करीब बीस दिनों से एक भी पाॅजीटिव मरीज नहीं है। इसके साथ ही पिछले कुछ सालों से मलेरिया भी लगभग नियंत्रण में है। इस साल भी मलेरिया के मरीज नहीं मिले है लेकिन अब डेंगू का खतरा सता रहा है। क्योंकि पिछले छह सालों में मलेरिया के मरीजों में 15 गुना तक की गिरावट आई है वहीं डेंगू के मरीजों में 5 गुना तक बढी है। बारिश के बाद जमने वाला पानी के इसके संक्रमण का मुख्य स्त्रोत होता है। मंदसौर जिले के सीतामऊ में डेंगू की दस्तक और एक साथ चार मरीजों के मिलने के बाद से ही प्रशासन अलर्ट हो गया है। इसके अलावा अमलावद और नांदवेल, मंदसौर शहर के बड़ी होली क्षेत्र में भी डेंगू की दस्तक हुई है। तीन दिनों से डेंगू के मरीज लगातार मिल रहे हैं अब तक आठ मरीज मिल चूके है। इनमें से दो को इंदौर भी रैफर किया गया है। ऐसे में लगातार मरीज मिलने से स्वास्थ्य विभाग की चितांए बढ गई है।
मंदसौर जिले में कई जगहों पर डेंगू का खतरा मंडरा रहा है। मंदसौर जिले के सीतामऊ में तो एक साथ चार मरीज मिलने के बाद प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग में हडकंप मचा गया है। रविवार के बाद सोमवार को भी मरीज मिले है लेकिन स्वास्थ्य विभाग ने रिर्पोट नहीं आने का हवाला देते हुए पुष्टि नहीं की। सीतामऊ के अलावा मंदसौर जिले के अमलावद, नांदवेल, बड़ी होली और जिले का एक व्यक्ति रतलाम जिले के मावता में डेंगू पाजिटिव मिला है। इसके बाद सीतामऊ के बोहरा बाखल व अन्य क्षेत्रों में  प्रशासन हरकत में आ गया है। सोमवार को एसडीएम संदीप शिवा ने मलेरिया अधिकारी व नगर परिषद के कर्मचारियों के साथ बैठक कर नगर में लार्वा व फीवर सर्वे के निर्देश दिए। इसके बाद जिन क्षेत्रों में मरीज मिले हैं, वहां पर एसडीएम सहित अमला पहुंचा, घरों के बाहर रखी टंकियों, पुराने टायरों को साफ करवाया। लोगों से कहा कि छतों व घरों के आसपास रखे बर्तनों में पानी एकत्र न होने दें, बारिश के पानी की निकासी करते रहे। डेंगू का मच्छर साफ पानी में ही पनपना है। बैठक में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अरविंद चैहान, मुख्य नगर पंचायत अधिकारी रवि गुप्ता, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता मौजूद थे।
जिला मलेरिया अधिकारी करणसिंह भूरिया ने बताया कि डेंगू के मरीज मिलने के बाद पूरे क्षेत्र में लार्वा-फीवर सर्वे किया जा रहा है। तथा पाॅजीटिव मरीजों का उपचार चल रहा है।
सीएमएचओं डाॅ के.एल. राठौर ने बताया कि जिले में अब तक डेंगू के आठ पाजिटिव मरीज मिले है। इनमें चार सीतामऊ, एक अमलावद, एक नांदवेल एवं एक पाजिटिव रतलाम के मावता में मिला है। सभी का उपचार चल रहा है। सोमवार को सीतामऊ में स्वास्थ्य अमले द्वारा सर्वे किया गया। जहां भी मरीज मिल रहे है वहां टीमे पहुंचकर सर्वे कर रही है।

 
डेंगू के लक्षण और प्रकार
डेंगू के लक्षणों में एक साधारण बुखार होता है और किशोरों एवं बच्चों में आसानी से पहचान नहीं होती। डेंगू में 104 फेरेनहाइट डिग्री का बुखार होता है, जिसके साथ इनमें से कम से कम दो लक्षण होते हैं। जैसे सिरदर्द, मांसपेशियों, हड्डियों और जोड़ों में दर्द, जी मिचलाना, उल्टी लगना, आंखों के पीछे दर्द, ग्रंथियों में सूजन, त्वचा पर लाल चकत्ते होना।--------------------------------------------------------

Chania