Friday, March 1st, 2024 Login Here
स्वास्थ्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 200 से अधिक प्रतिनिधि को राष्ट्रीय अवॉर्ड से सम्मानित किया भैरव घाटी पर सड़क हादसा, एक की दर्दनाक मौत दो कारों की आमने-सामने भिडन्त, कॉन्स्टेबल की मौत मानपुरा में ग्रामीण के घर, बाड़े व स्विफ्ट कार से 63 किलो से अधिक अफीम जब्त सुपर पॉवर बनने की दिशा में तीन सेमीकंडक्टर, 1.26 लाख करोड़ के प्लांट को सरकार की मंजूरी 8 महिने बाद खाटु श्याम बाबा के मंदिर में प्रवेश कर भक्तों ने किए दर्शन 15 मिनिट में एक लाख का साउंड सिस्टम चुराने वाला बदमाश सीसीटीवी से पकडाया प्रधानमंत्री ने किया वर्चुअल भूमिपूजन, मंदसौर में 99.14 करोड़ की लागत से 18 महीने में तैयार होगा औद्योगिक पार्क गुजरात मॉडल से मप्र सरकार रोकेगी चेक पोस्ट पर अवैध वसूली अधिक आवक के चलते मंडी में बढ़ी अव्यवस्था, दिनभर बंद रही नीलामी शाम को शुरु हुई, आधे घंटे बाद फिर बंद, व्यापारी, किसान व हम्मालों का विरोध जारी नीमच से सिंगोली रावतभाटा होते हुए कोटा रेल मार्ग के फाइनल सर्वे की स्वीकृति, 5 करोड़ से अधिक की राशि स्वीकृत 500 जवानों की 45 टीमों ने की अपराधियों की धरपकड़, एक रात में 156 अपराधियों को पकडा मध्यप्रदेश की 29 सीटों पर पैनल तैयार,मंदसौर संसदीय क्षेत्र से देवीलाल धाकड, यशपालसिंह सिसोदिया, मदनलाल राठौर और सुधीर गुप्ता का नाम दुर्घटनाओं की जांच वैज्ञानिक तरीके से करने के निर्देश लेकिन पुरातन परम्परा अभी भी कायम अव्वल होने का दावा करने वाली नपा में सफाई व्यवस्था बदहाल

किया विरोध, बोले आवागमन होगा प्रभावित
मंदसौर जनसारंगी।
 शहर में मुक्तिधाम होकर शिवना पुल के नीचे से अलावदाखेड़ी तरफ जाने वाले मार्ग को रेलवे ने बंद करने का फैसला कर लिया है। मिड इंडिया अंडरब्रिज से आवागमन चालू होते ही इस रोड को बंद कर दिया जाएगा। जनवरी के बाद कभी भी इस रेलखंड में दोहरीकरण का काम भी शुरू हो जाएगा। इसमें शिवना नदी पर नया ब्रिज बनने सहित अन्य कार्य भी होंगे। तब कोई दुर्घटना नहीं हो इसके लिए भी मार्ग को बंद किया जाएगा। अब इस मार्ग से होने वाला यातायात मिड इंडिया अंडरब्रिज से होकर कर्मचारी कालोनी से अलावदाखेड़ी तरफ होकर जाएगा। हालांकि कुछ भूमाफिया इस क्षेत्र में कालोनी काटकर लोगों को गुमराह कर रहे हैं कि मार्ग बंद नहीं होगा। वहीं इस फैसले को लेकर बोहराखेड़ी के लोग कलेक्टर के नाम आवेदन सौंपने पहुंचे। जिसमें कहा गया कि रास्ता बंद होने से आवागमन प्रभावित होगा।
रेलवे ने पहले भी शिवना पुल के नीचे से जा रहे अलावदाखेड़ी रोड पर रोक लगाई थी। यह रोड भी बाद में ही बनाया गया था। पूर्व में अलावदाखेड़ी तरफ जाने वाला मार्ग मिड इंडिया रेलवे फाटक होकर वर्तमान कर्मचारी कालोनी में से ही जाता था। रेलवे द्वारा कभी भी अनुमति नहीं देने के चलते ही रेलवे की सीमा में रोड को पक्का भी नहीं किया गया है। पूरे वर्ष रेलवे सीमा के मार्ग पर गड्ढे और उनमें गंदा पानी भरा रहता है। अब जनवरी के बाद कभी भी नीमच-रतलाम रेलखंड का दोहरीकरण शुरू हो जाएगा। इस दौरान यहां एक नया ब्रिज बनेगा। एक नई लाइन के लिए भी काम चलेगा। ऐसे में आवागमन करने वाले लोगों को दुर्घटना से बचाने के लिए भी मार्ग को बंद किया जा रहा है।
बिना अनुमति चल रहा था मार्ग
रतलाम रेलमंडल डीआरएम ने भी स्पष्ट कर दिया है कि अलावदाखेड़ी मार्ग अब बंद किया जाएगा। यह इतने वर्षों से बिना अनुमति ही चल रहा था। यहीं वजह है कि रेलवे ने कभी भी अपनी सीमा में पक्की सडक़ भी नहीं बनाने दी है। शहर के मुक्तिधाम से अलावदाखेड़ी, अलावदाखेड़ी होकर ग्राम ढिकोला तक यह मार्ग जाता है। इन सभी लोगों को अब मिड इंडिया अंडरब्रिज वाले रास्ते से होकर आना होगा।
3100 रुपए वर्गफीट में बिक रहे प्लाट
अलावदाखेड़ी रोड के बंद होने की अभी तक अफवाहें ही थी पर अब रेलवे ने पूरी तरह से इसकी पुष्टि कर दी है। इससे उन लोगों को सतर्क हो जाना चाहिए। जिनको प्रापर्टी दलाल व भूमाफिया गलत जानकारी देकर इस क्षेत्र की कालोनियों में 3100 रुपये वर्गफीट तक प्लाट बेच रहे हैं। जबकि यह मार्ग बंद होने के बाद मिड इंडिया अंडरब्रिज ही एकमात्र रास्ता होगा जिसकी हाइट महज 10 से 12 फीट रहेगी।
कॉलोनाईजर को फायदा पहुंचाने के लिए बर्बाद किए सवा करोड़
यह बात नगर पालिका के जिम्मेदारों को भी पता थी कि रेलवे ने अलावदाखेड़ी रोड बंद करने का निर्णय ले लिया है। इसके बाद भी शांतनु विहार से अलावदाखेड़ी रोड तक निजी जमीन पर 1.23 करोड़ रुपये लगाकर सीसी रोड बनवाई है। निजी जमीन के दोनों तरफ अब जाकर कालोनियां कट रही है। कालोनाइजर को फायदा पहुंचाने के लिए पहले ही नगर पालिका ने इतना महंगा रोड बनाया है। जबकि शहर की वर्षों पुरानी कालोनियों में लोग सडक़ों के लिए तरस रहे हैं।
ग्रामीणों ने दिया कलेक्टर को आवेदन
मार्ग बंद नहीं करने की मांग को लेकर बेाहराखेड़ी के लोगों ने कलेक्टर को आवेदन दिया। जिसमें कहा गया कि आने जाने के लिए रास्ता ओवरब्रिज से दिया जाएगा। जबकि अलावदाखेड़़ी, बोहराखेड़ी, चिकल्या, ढिकोला, भूखी के लोग बरसात के समय को छोडकर इसी रास्ते से आवागमन करते हैं। रास्ता बंद होने से मंदसौर की दूरी दो से तीन किलोमीटर बढ़ जाएगी। इसलिए रास्ते को बंद करने का निर्णय वापिस लेना चाहिए।
---------------------------------------------

Chania