Friday, March 1st, 2024 Login Here
स्वास्थ्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 200 से अधिक प्रतिनिधि को राष्ट्रीय अवॉर्ड से सम्मानित किया भैरव घाटी पर सड़क हादसा, एक की दर्दनाक मौत दो कारों की आमने-सामने भिडन्त, कॉन्स्टेबल की मौत मानपुरा में ग्रामीण के घर, बाड़े व स्विफ्ट कार से 63 किलो से अधिक अफीम जब्त सुपर पॉवर बनने की दिशा में तीन सेमीकंडक्टर, 1.26 लाख करोड़ के प्लांट को सरकार की मंजूरी 8 महिने बाद खाटु श्याम बाबा के मंदिर में प्रवेश कर भक्तों ने किए दर्शन 15 मिनिट में एक लाख का साउंड सिस्टम चुराने वाला बदमाश सीसीटीवी से पकडाया प्रधानमंत्री ने किया वर्चुअल भूमिपूजन, मंदसौर में 99.14 करोड़ की लागत से 18 महीने में तैयार होगा औद्योगिक पार्क गुजरात मॉडल से मप्र सरकार रोकेगी चेक पोस्ट पर अवैध वसूली अधिक आवक के चलते मंडी में बढ़ी अव्यवस्था, दिनभर बंद रही नीलामी शाम को शुरु हुई, आधे घंटे बाद फिर बंद, व्यापारी, किसान व हम्मालों का विरोध जारी नीमच से सिंगोली रावतभाटा होते हुए कोटा रेल मार्ग के फाइनल सर्वे की स्वीकृति, 5 करोड़ से अधिक की राशि स्वीकृत 500 जवानों की 45 टीमों ने की अपराधियों की धरपकड़, एक रात में 156 अपराधियों को पकडा मध्यप्रदेश की 29 सीटों पर पैनल तैयार,मंदसौर संसदीय क्षेत्र से देवीलाल धाकड, यशपालसिंह सिसोदिया, मदनलाल राठौर और सुधीर गुप्ता का नाम दुर्घटनाओं की जांच वैज्ञानिक तरीके से करने के निर्देश लेकिन पुरातन परम्परा अभी भी कायम अव्वल होने का दावा करने वाली नपा में सफाई व्यवस्था बदहाल

मंदसौर 
शिवना में मगरमच्छ की दहशत एक बार फिर नजर आई। पहले रामघाट बांध के पास एक पत्थर पर मगरमच्छ दिखाई दिया। इसके बाद यहां अवैध रूप से रेत निकालकर लोगों को इधर उधर भागते हुए देखा गया। बाद में यहां मगरमच्छ देखने वालों की भीड़ लग गई। काफी समय तक मगरमच्छ पत्थर पर बैठा रहा। इसके बाद पानी में चला गया। इसके बाद गुरुवार की दोपहर को शिवना नदी के किनारे गोंदी घाट पर धूप लेने के लिए मगरमच्छ नदी के किनारे पर बैठा रहा आज भी यहां लोगों की भारी भीड़ जमा हो गई हालांकि वह मामला नहीं पहुंच पाया इधर शिवना नदी में घूम रहे मगरमच्छ के कारण लोगों में भी दहशत का वातावरण बना हुआ है क्योंकि शिवना नदी के किनारे पर ही भगवान पशुपतिनाथ का मेला भी लग रहा है ऐसे में मेले में भी लोगों की आवा जाही है।
 उल्लेखनीय है कि तीन माह पहले पशुपतिाथ मंदिर के पास शिवना में भी मगमच्छ देखा गया था। इसके बाद पानी में नहाने और करीब जाने पर प्रतिबंध लगाया था।
Chania