Sunday, March 3rd, 2024 Login Here
मंदसौर संसदीय क्षेत्र से सुधीर गुप्ता को मिला टिकीट सेवा कार्यो में उत्कृष्ट कार्य को लेकर रेडक्रॉस सोसायटी जिला शाखा मंदसौर को मिला अवार्ड बांछड़ा डेरों पर पुलिस की दबिश, भारी मात्रा में अवैध शराब जप्त प्रतिवेदन पेश नहीं करने पर नपा सीएमओं के खिलाफ पांच हजार का जमानती वारंट जारी सूदखोरों से परेशान होकर की आत्महत्या, पिता के मृत्युभोज के लिए लिया था पैसा मंत्री सारंग ने की वन-टू-वन चर्चा, कहा 6 लाख वोट से भाजपा को जिताने का संकल्प ले लोकसभा चुनाव - भाजपा के 155 उम्मीदवारों की सूची आज घोषित होने की संभावना स्वास्थ्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 200 से अधिक प्रतिनिधि को राष्ट्रीय अवॉर्ड से सम्मानित किया भैरव घाटी पर सड़क हादसा, एक की दर्दनाक मौत दो कारों की आमने-सामने भिडन्त, कॉन्स्टेबल की मौत मानपुरा में ग्रामीण के घर, बाड़े व स्विफ्ट कार से 63 किलो से अधिक अफीम जब्त सुपर पॉवर बनने की दिशा में तीन सेमीकंडक्टर, 1.26 लाख करोड़ के प्लांट को सरकार की मंजूरी 8 महिने बाद खाटु श्याम बाबा के मंदिर में प्रवेश कर भक्तों ने किए दर्शन 15 मिनिट में एक लाख का साउंड सिस्टम चुराने वाला बदमाश सीसीटीवी से पकडाया प्रधानमंत्री ने किया वर्चुअल भूमिपूजन, मंदसौर में 99.14 करोड़ की लागत से 18 महीने में तैयार होगा औद्योगिक पार्क
मंदसौर। कोरोना ने प्रदेश में फिर से दस्तक दी है। हालांकि मंदसौर की बात करें तो कोरोना को पछाडऩे के लिए स्वास्थ्य विभाग फिर से तैयार है। एक करोड़ रुपए से बनी आरटीपीसीआर लैब में जांच संभवत: आज से शुरु हो जाएगी।  सैंपल के बाद लैब से 5 घंटे के अंदर रिपोर्ट मिल जाएगी। इसके लिए शासन स्तर से लैब के लिए वीटीएम किट सहित लैब रिएजेंट (अभिकर्मक) खरीदी के लिए बजट भी प्राप्त हो गया है। स्थानीय स्तर पर दो लैब टेक्नीशियन व पेरीफेरी से भी तीन टेक्नीशियंस नियुक्त किए जाएंगे। इधर, जिला अस्पताल में आईएलआई और एसएआरआई (गंभीर तीव्र श्वसन संक्रमण) वार्ड तैयार होकर स्वास्थ्य महकमा भी अलर्ट मोड पर है।
केंद्र से मिले हैं निर्देश
कोरोना वायरस के नए वैरिएंट जेएन-1 के लिए केंद्र सरकार ने कोविड टेस्ट करने के निर्देश दिए है। जिला अस्पताल परिसर स्थित आरटीपीसीआर लैब में फिलहाल माइक्रो बायोलॉजिस्ट नियुक्त होकर डेंगू, चिकनगुनिया व स्क्रब टाइफस सहित अन्य वायरल की जांच की जा रही है। कोविड की जांच अब तक वीटीएम किट व रिएजेंट की वजह से शुरू ही नहीं हो पाई हैं। विभाग के अनुसार शासन से प्राप्त दो लाख रुपए से सामग्री खरीदी के लिए ऑर्डर किया जा चुका है जो कि सोमवार तक मिलना संभावित है। बता दें कि रिएजेंट एक केमिकल होता है जो वैरिएंट की जांच में मददगार साबित होता है। रिएजेंट की कमी मंदसौर से लेकर राजधानी तक है।
100 से अधिक जांच की मिलेगी सुविधा
आरटीपीसीआर लैब शुरू होने से कैंसर, टीबी, हेपेटाइटिस, स्वाइन फ्लू, डीएनए सहित करीब 100 से अधिक वायरल जांच की सुविधा मिलेगी। हेपेटाइटिस बी व सी जांच के लिए जो सैंपल भोपाल भेजना पड़ रहे हैं, जहां से 10 दिन में रिपोर्ट प्राप्त होती है। शासन द्वारा निजी लैब को भी भुगतान करना पड़ता है, यही जांच आरटीपीसीआर लैब में डेढ़ से दो घंटे में ही की जा सकती है। वहीं, मरीजों के प्लेटलेट्स गिरने का कारण भी लैब के माध्यम से पता चल सकेगा। मलेरिया, टीबी जैसी बीमारियों की एक बार में 94 सैंपल की जांच एक साथ की जा सकेगी।
 संदिग्ध केस दिखते ही करेंगे भर्ती
प्रदेश में कोरोना के मामलों की दस्तक हो चुकी है। इसी बीच जिला अस्पताल में इन दिनों सर्दी-जुकाम, खांसी सहित अन्य सीजनल वायरल के करीब एक हजार मामले रोज अस्पताल में पहुंच रहे हैं। इस बीच विभाग आईएचआईपी पोर्टल के जरिये भी निगाह बनाए हुए है। इसके अलावा जिला अस्पताल में आईएलआई और एसएआरआई (गंभीर तीव्र श्वसन संक्रमण) वार्ड में संदिग्ध मामले सामने आने पर भर्ती किए जाएंगे। फिलहाल एक भी मामला सामने नहीं आया है। हालांकि प्रबंधन ने नर्सिंग स्टाफ व ट्रेंड कर्मचारियों की ड्यूटी भी लगा दी है। सिविल सर्जन डॉ. डी. के. शर्मा ने बताया कि ऑक्सीजन प्लांट, कंसंट्रेटर सहित अन्य उपकरणों को भी चालू करके देख लिया है। पर्याप्त इंतजाम हैं, परेशान होने जैसी कोई बात नहीं है। कोविड उपयुक्त व्यवहार का लोग पालन करें, मास्क लगाएं व भीड़ में जाने से बचें।
Chania