Tuesday, April 16th, 2024 Login Here
सभी वर्गो के हितों का समावेश है कांग्रेस का न्याय पत्र तीन करोड महिलाओं को लखपति दीदी बनाकर सशक्त बनाऐगी मोदी सरकार कुत्तों के आतंक से शहरवासी परेशान, कथित पशु प्रेमी पड रहे प्रशासन पर भारी रतलाम के सैलाना में युवक की चाकू मारकर हत्या: बाड़े में सो रहे व्यक्ति की हत्या कर जमीन में गाढा शव ट्रेन गरीबों की, किराया स्पेशल आग बुझाने दौड़े बाराती, दो कुएं में गिरे, मौत: हर परिवार की एक महिला को देगे एक लाख, तीस लाख युवाओ को मिलेगा रोजगार- श्री दिलीपसिंह गुर्जर सुनहरे भविष्य का रोड मैप है भाजपा का घोषणा पत्र चंदवासा की यूको बैंक में आधी रात को आगजनी लॉज में ठहरे व्यापारी को चमकाकर पुलिस ने की अवैध वसूली, कप्तान ने किया आरक्षक को लाइन हाजिर अफीम किसानों के लिए सीपीएस पद्धती को समाप्त करेंगे दिनभर बादल छाऐ, शाम को हल्की बारिश शादी के लिए दबाव डालने पर सैनिक युवक ने पत्नी के साथ मिलकर की हत्या नीमच में क्रिकेट का आनलाइन सट्टा उतारते 8 बुकी गिरफ्तार, 21 को किया नामजद
मंदसौर। ब्लू व्हेल, पब्जी जैसे ऑन लाईन एप्लीकेशन के चक्कर में कई लोग पागल हो गए। आत्महत्याओं के मामले भी सामने आए। अब ऐसा ही एक जादूगर आया है स्टॉर मेकर एप्लीकेशन के नाम से। जी हां, सिंगिंग स्टार बनने के चक्कर में लोग पूरी तरह से इस एप्लीकेशन में खोकर लगभग पागल हो रहे हैं। स्थिति यह है कि महिलाएं भी इस एप्लीकेशन का शिकार हो रहे हैं। मंदसौर में ही इस तरह के मामले सामने आ रहे हैं जहां परिवार भी बर्बाद हो गए है।
 सिंगिंग के नाम पर एक एप्लीकेशन इन दिनों चल रही है जिसका नाम है स्टॉर मेकर। सिंगिंग के शौकीन लोग ज्यादातर महिलाएं इस एप्लीकेशन में पागलपन का शिकार बन रही है। इस एप्लीकेशन में एल्गोरिथम और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के जरिए आपकी वॉइस एंड सिंगिंग को बेहतर बना दिया जाता है और यूजर को कई सारे वर्चुअल गिफ्ट सेंड कर दिए जाते हैं। इस एप्लीकेशन में वोट आईडी का उपयोग किया जाता है जो की एप्लीकेशन द्वारा बनाई गई फर्जी आई डी होती है इन आईडी द्वारा यूजर को लाइक कमेंट और शेयर किया जाता है ।  इस एप्लीकेशन में धीरे-धीरे यूजर को टास्क दिए जाने लगते हैं जो की लाइव सिंगिंग करना ,गेम खेलना ,पार्टी रूम बनाना उसमें परफॉर्मेंस देना ,कई लोगों के साथ में बैठकर लाइव बातें करना यह सब इस एप्लीकेशन के टास्क होते हैं। धीरे-धीरे यूजर इसमें फंसकर पूरा दिन और पूरी रात इस एप्लीकेशन में परफॉर्म करने लगता है।
लालच में एडिक्टेड हो रहे लोग

फॉलोअर्स रैंक और गिफ्ट बढ़ाने के लालच में यूजर धीरे-धीरे इस एप्लीकेशन का एडिक्टेड बन जाता है। जबकि फॉलोअर्स सभी फर्जी है। जो तकनीक की मदद से खुद ब खुद बढ़ रहे हैं।  इस एप्लीकेशन के द्वारा बनाई गई एक मायाजाल दुनिया में खो जाता है। ऐसे केसेस अपने शहर में भी देखने को मिल रहे हैं जिसमें महिलाएं पूरा दिन पूरी रात इस एप्लीकेशन में लगी रहती है। जिससे वह एक वर्चुअल दुनिया में खोकर इसी एप्लीकेशन को अपनी दुनिया मान लेती है। धीरे-धीरे यूजर इसमें शिंजो प्रेनिया डिमेंशिया का शिकार हो जाता है।  इस प्रकार यह एप्लीकेशन कई परिवार को बर्बादी की कगार पर लाकर खड़ा कर दे रही है।  यह एप्लीकेशन इंसान के दिमाग में डोपामाइन जैसे जैसे फील गुड हारमोंस के साथ में रिएक्शन क्रिएट करती है।
मंदसौर में भी शिकार

मंदसौर में भी इस तरह के केस सामने आए है। जिसमें महिलाओं के इस एप्लीकेशन के चक्कर में पडऩे के कारण परिवार बर्बाद हो गया है। सीधे सरल भाषा में बात करें तो इस एप्लीकेशन में कुछ मित्र एक साथ गु्रप में जुड़ जाते हैं। इसमें देश में कहीं की भी महिलाएं और पुरुष होते हैं। एप्लीकेशन इस तरह से फर्जी फालोअर्स देकर एडीक्ट बना देती है कि रात को तीन से चार बजे तक एप्लीकेशन में लोग उलझे रहते हैं। इस मामले में एक सामाजिक कार्यकर्ता ने शिकायत भी की है।

Chania