Friday, March 1st, 2024 Login Here
स्वास्थ्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 200 से अधिक प्रतिनिधि को राष्ट्रीय अवॉर्ड से सम्मानित किया भैरव घाटी पर सड़क हादसा, एक की दर्दनाक मौत दो कारों की आमने-सामने भिडन्त, कॉन्स्टेबल की मौत मानपुरा में ग्रामीण के घर, बाड़े व स्विफ्ट कार से 63 किलो से अधिक अफीम जब्त सुपर पॉवर बनने की दिशा में तीन सेमीकंडक्टर, 1.26 लाख करोड़ के प्लांट को सरकार की मंजूरी 8 महिने बाद खाटु श्याम बाबा के मंदिर में प्रवेश कर भक्तों ने किए दर्शन 15 मिनिट में एक लाख का साउंड सिस्टम चुराने वाला बदमाश सीसीटीवी से पकडाया प्रधानमंत्री ने किया वर्चुअल भूमिपूजन, मंदसौर में 99.14 करोड़ की लागत से 18 महीने में तैयार होगा औद्योगिक पार्क गुजरात मॉडल से मप्र सरकार रोकेगी चेक पोस्ट पर अवैध वसूली अधिक आवक के चलते मंडी में बढ़ी अव्यवस्था, दिनभर बंद रही नीलामी शाम को शुरु हुई, आधे घंटे बाद फिर बंद, व्यापारी, किसान व हम्मालों का विरोध जारी नीमच से सिंगोली रावतभाटा होते हुए कोटा रेल मार्ग के फाइनल सर्वे की स्वीकृति, 5 करोड़ से अधिक की राशि स्वीकृत 500 जवानों की 45 टीमों ने की अपराधियों की धरपकड़, एक रात में 156 अपराधियों को पकडा मध्यप्रदेश की 29 सीटों पर पैनल तैयार,मंदसौर संसदीय क्षेत्र से देवीलाल धाकड, यशपालसिंह सिसोदिया, मदनलाल राठौर और सुधीर गुप्ता का नाम दुर्घटनाओं की जांच वैज्ञानिक तरीके से करने के निर्देश लेकिन पुरातन परम्परा अभी भी कायम अव्वल होने का दावा करने वाली नपा में सफाई व्यवस्था बदहाल

मंदसौर निप्र। मंदसौर के बहुचर्चित विरेन्द्र ठन्ना हत्याकाण्ड के आरोपी आजम लाला सहित चार आरोपियों को न्यायालय ने आजन्म कारावास की सजा सुनाई है आरोपियों ने ठन्ना परिवार के दलौदा स्थित एक प्लाट पर कब्जा करने की नियत से विरेन्द्र की हत्या की थी । 30 जनवरी 2015 को हुए इस हत्याकाण्ड का तीन साल बाद फैसला आया ।
मामलें में अदालत ने कुल 11 आरोपियों में से 7 को बरी कर दिया और 4 को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है । उपसंचालक अभियोजन बापुसिंह ठाकुर ने बताया कि 30 दिसम्बर 2015 को रात करीब 8 बजे कालाखेत के इलेक्ट­ानिक व्यवसायी विरेन्द्र ठन्ना अपनी दुकान बंद कर दुपहिया वाहन से अपने घर शुक्ला कॉलोनी की और जा रहे थे इसी दौरान सुचित्रा टॉकिज के निकट मोटर सायकिल पर सवार होकर आएें आरोपियों ने पिस्टल से विरेन्द्र ठन्ना को गोली मार दी थी और भाग निकले थे घटना के बाद तत्काल विरेन्द्र ठन्ना को जिला अस्पताल ले जाया गया था जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया था । इस मामलें में माननीय न्यायाधीश ने मंगलवार को फैसला सुनाते हुए भारतीय दण्ड संहिता की धारा 302 के तहत सरफराज उर्फ शानू पेचकश पिता मुन्ना खां उर्फ मुनव्वर निवासी कंधी बस्ती प्रतापगढ़, अरमान उर्फ समीर उर्फ विक्की पिता सलीम खान निवासी गोदशाह उज्जैन हालमुकाम इन्द्रा कॉलोनी झुग्गी बस्ती मंदसौर को आजीवन कारावास व 10-10 हजार रू. जुर्माने की सजा सुनाई तथा भादस की धारा 302, 120 बी में रफीक पिता नत्थु खां मुसलमान निवासी मिर्चीवाड़ा मंदसौर व आजम लाला पिता कय्युम लाला निवासी अखेपुर जिला प्रतापगढ़ को आजीवन कारावास व 10-10 हजार  रू. जुर्माने की सजा से दण्डित किया गया । उल्लेखनीय है कि आजम लाला के खिलाफ हत्या व हत्या के प्रयास के अन्य मामलें भी दर्ज है ।
होस्टटाईल हो गए थे गवाह फिर हुए थे बयान
मामलें की सुनवाई के दौरान एक दौर ऐसा भी आया था जब इस मामलें से जुड़े सारे गवाह होस्टटाईल हो गए थे इसी बीच शहर में   हुई अन्य वारदातों के बाद तात्कालिक पुलिस अधीक्षक ओपी त्रिपाठी ने इस मामलें को संज्ञान लिया और गंभीरता दिखाते हुए माननीय न्यायालय से पुनः बयान कराने का निवेदन किया जिसे न्यायालय ने स्वीकारा । पुलिस अधीक्षक ने मृतक के परिवार सहित अन्य गवाहों को सुरक्षा का भरोसा दिलाया और दोबारा से उनके बयान कराएें जिसके बाद आज यह महत्वपूर्ण फैसला हो पाया ।

Chania