Friday, May 7th, 2021 Login Here
रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर बेटा चाहता था ऐश का जीवन जीने के लिए जमीन बेचना, माॅ ने मना किया तो कर दी हत्या कोविड की मार ने तोड़ी आम लोगों की कमर, बिगाडा मध्यवर्गीय परिवार का बजट योग बना रहा निरोग, कोरोना से जीती जंग आपदा में गायब धरती के भगवान! एक दर्जन डाक्टरों को नोटिस अग्रवाल समाज द्वारा सवा लाख महामृत्युंजय जाप एवं नवचंडी अनुष्ठान हुआ आरंभ अग्रवाल समाज सोमवार से सवा लाख महामृत्युंजय जप एवं नवचंडी अनुष्ठान का आयोजन करेगा लापरवाहीं- कोरोना लेकर बाजार में घूम रहे संक्रमित, चार महिने में नहीं बन पाया सवा दो सौ मीटर का नाला दूकान का शटर बंद लेकिन अंदर मिले ग्राहक हर दिन आॅक्सीजन आने का दावा लेकिन खत्म नहीं हो रहीं मारा-मारी *रजिस्ट्री की गाइड लाइन 30 जून तक यथावत* MP में 1 मई से शुरू नहीं होगा वैक्सीनेशन पार्ट-3:2.5 लाख डोज की पहली खेप 3 मई तक मिली तो 18+ लोगों को 5 मई से लगेगा टीका, 19 हजार लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन सोमली नदी को पार कर मंदसौर की तरफ आगे बढा चंबल का पानी

 भोपाल निप्र । मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी के राष्ट­ीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ सरकार पर हमला करते हुए कहा कि इस सरकार के 2 मंत्री तो पद पर रहने के लायक ही नहीं हैं। शिवराज सिंह मंत्री जीतू पटवारी और प्रद्युम्न सिंह तोमर के बारे में बात कर रहे थे, जिन्होंने सरकारी कार्यक्रम में भरे मंच से कहा कि हमारी सरकार गरीबों को शराब आदि का नशा करने के लिए भी पैसा दे रही है।  
शिवराज सिंह ने कहा कि यह अजब सरकार के गजब मंत्री है। इन्हें नहीं समझ आता कि ये क्या बोल रहें हैं। इन्हें होश नहीं है, पहले ही प्रशासनिक अराजकता और कानून व्यवस्था ध्वस्त है। जहां चारों तरफ अफरा.तफरी मची है, वहीं लगता है की ये खुद सामाजिक अराजकता भी फैलाना चाहते हैं। कमलनाथ सरकार के मंत्रियों को कम से कम मंत्री होने का मतलब पता होना चाहिए। उन्होंने कहा कि सामान्य मनुष्य अगर नशे के बारे में बोले तो अलग बात होती है लेकिन मंत्री बोल रहे हैं कि देशी.विदेशी पीने की व्यवस्था कर दी। दूसरे मंत्री कह रहे हैं कि बुढ़ापे में बीड़ी तंबाकू खाने की व्यवस्था कर दी। यह बीड़ी पिला के और तंबाकू खिला के ःया कैंसर के शिकार बनाना चाहते हैं सबको। मंत्रियों और सरकार की जिम्मेदारी है कि वो लोगों को नशे से दूर रखने का प्रयास करें। तंबाकू जैसा नशा जिससे कैंसर पैदा होता है उससे जनता को दूर रखें लेकिन यहां तो उल्टा उसका प्रचार करते है कमलनाथ सरकार के मंत्री। उन्होंने कहा कि इन मंत्रियों का यह व्यवहार मंत्री रहने लायक नहीं है।  शिवराज ने बोला कि मुख्यमंत्री कन्यादान योजना एक पवित्र उद्देश्य से प्रारंभ की गई थी। वह परिवार जिनके लिए बेटियों की शादी उनपर भारी पड़ती है या कुछ और कारणों से बेटियों शादी में दिक्कतें आतीं हैं, यह योजना उन परिवार के लिए थी। वहीं मंत्री अगर खुलेआम देशी विदेशी नशे का प्रचार करेंगे, तो समाज किस दिशा में जाएगा।

Chania