Monday, May 10th, 2021 Login Here
निजी क्लिनिक को दोबारा सील करने के विरोध में उतरे नागरिक आपदा में सहारा बन रहे मंदसौर के सेवाभावी व्यक्तित्व जनसारंगी ने किया था आगाह, पुलिस कार्रवाहीं ने लगाई खबर पर मोहर/ अस्पताल से सांसे चुराकर कालाबाजारी में बेच रहे युवक पर रासुका महामृत्युंजय जाप के सकारात्मक परिणाम सामने आएंगे ओर कोरोना महामारी होगी खत्म आपदा में अंतिम सफर के संस्कार का इंतजाम करने आगे आऐ भामाशाह कोरोना का कहर/ आठ दिन में शहर से ढाई गुना मौते ग्रामीण अंचल में हुई ! कोरोना का कहर/ आठ दिन में शहर से ढाई गुना मौते ग्रामीण अंचल में हुई ! भोईवाडा की घटना के बाद मंदसौर में पुलिस का फ्लेग मार्च जावरा विधायक से पंगा और मंदसौर के हिस्सें की आॅक्सीजन रोकना भरी पड़ा कलेक्टर को, विधायक सिसोदिया की सीएम के समक्ष कड़ी आपत्ति के बाद विवाह की खुशी में भूल गए लाॅकडाउन के आदेश/ शादि में मेंहमान बन कर पहुंच गऐ एसडीएम और टीआई बीस दिन लाॅकडाउन के बाद भी कोरोना काबू नहीं हुआ तो अब सीएम के निर्देश के बाद मंदसौर में भी शुरु हुआ सख्ती वाला लॉक डाउन कोरोना के तांडव की हकीकत बयां करती मंदसौर के शमशान की सच्चाई ! कोरोना से जंग में भारतीय जैन संघठना ने नृत्य नाटिका के माध्यम से दिया सकारात्मकता का सन्देश रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर

जावरा /जगदीश राठौर ।  पिछली विधानसभा एवं लोकसभा चुनाव के दौरान उम्मीदवारों को नेताओं के वादे पूरे नहीं होने से ग्रामीण क्षेत्रों में मतदाता खुलकर विरोध का इजहार कर रहे हैं पिपलोदा तहसील के ताली दाना पंचायत अंतर्गत आने वाले गांव भाटखेड़ी के मतदाताओं ने ऐसा ही गुस्सा दिखाते हुए बैनर लगाया तथा बताया कि वे लोकसभा चुनाव का बहिष्कार कर रहे हैं  ।
लगभग एक हजार की जनसंख्या के गांव भाटखेड़ी के लोगों का कहना है कि चुनाव के दौरान उम्मीदवार आते हैं और समस्या हल करने का वादा कर जाते हैं लेकिन मतदान के बाद कोई देखने नहीं आता । यही वजह है कि भाटखेड़ी से आगे तक का 2 किलोमीटर का रोड नहीं बन पाया और हजारों ग्रामीण परेशान हो रहे हैं । इसी प्रकार भीमा खेड़ी गांव में भी मतदाताओं ने अपना गुस्सा व्यक्त करते हुए बताया कि भीमा खेड़ी में सीमेंट कंक्रीट सड़क का निर्माण करीब 1 वर्ष पूर्व हुआ हुआ लेकिन लगभग 25 -30 मकानों के सामने 5 फीट से अधिक नाली नुमा गङ्ढे देखे जा सकते हैं यहां पर नाली का निर्माण नहीं किया गया है घर में आने और जाने के लिए महिलाओं पुरुषों में बच्चों को तथा आगंतुक अतिथियों को आने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है स्वच्छता अभियान के अंतर्गत न सिर्फ नाली का निर्माण होना चाहिए बल्कि नाली ढकी होना चाहिए ताकि कूड़ा करकट वह गंदगी से मच्छर पैदा ना हो ग्रामीणों का कहना है कि भीमा खेड़ी में दोनों पार्टी के नेता आते हैं और आश्वासन देकर चले जाते हैं लेकिन जनप्रतिनिधियों को जन समस्याओं से कोई सरोकार नहीं है इसलिए लोकसभा चुनाव में हमारा किसी भी पार्टी को वोट देने का मन नहीं कर रहा है ।   

Chania