Sunday, February 25th, 2024 Login Here
गरीब के जीवन से कष्टों को मिटाना प्रदेश सरकार का लक्ष्य-डॉ यादव चिकित्सक पर हुई कार्रवाहीं का डाक्टरों व सिंधी समाज ने किया विरोध किरायेदारों से अनजान पुलिस, मकान मालिक भी लापरवाह नवनिर्वाचित राज्यसभा सांसद बंशीलाल जी गुर्जर का मंदसोर शहर में होगा भव्य स्वागत ट्रक में लहसुन के नीचे छुपाकर रख 1031 किलो डोडाचूरा जब्त, ड्राइवर गिरफ्तार मुख्‍यमंत्री डॉ.मोहन यादव आज नीमच में 752 करोड से अधिक के कार्यो का लोकार्पण एवं भूमिपूजन करेंगे 36 घंटे में पुलिस ने किया अन्तरॉज्जीय लूटेरों को गिरफ्तार मदिरा दुकानों के नवीनीकरण आवेदन 22 फरवरी तक करें पांच साल के इंतजार के बाद आज से मंदसौर में प्रारंभ होगा पासपोर्ट कार्यालय मध्यप्रदेश से राज्यसभा के पांचों प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित; 4 सीट बीजेपी, एक कांग्रेस के खाते में 133 किमी लंबे मार्ग में 14 किमी लंबा दूसरा रेलवे ट्रैक तैयार साँप भगाने के लिए टैंक में पेट्रोल डाला, तीली जलाते ही धमाका हुआ, दम्पत्ति झुलसे नदियॉ को छलनी करने का खेल चल रहा,माफियाओं पर नही लग पा रही नकेल सिंगिग स्टार बनने के चक्कर मे लोग हो रहे शिकार संसद रत्न पुरस्कार से सम्मानित होने वाले सांसदों को राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ने बधाई दी

अक्सर अपने जीवन में प्रेशर की स्थिति, जो दम महसूस करते हैं, कभी कभी वो हमारे जी किसी परिस्थिती से संबंधित होती है या फिर कभी-कभी हम एक परिस्थिति का दबाव दूसरी परिस्थिति में फील करते हैं, और ये दोनों ही एक दूसरे से संबंधित नहीं होते हैं। इस तरह से यह सब एक पूरे दिन और दिन-ब-दिन चलता रहता है। और यह सारा दबाव हमारे मन में आने वाले विचारों की संख्या बढ़ाता है, जिसके परिणामस्वरूप हमारी कार्यकुशलता और "परखने और निर्णय लेने की शक्ति" कम हो जाती है। और ऐसी मनःस्थिति से निकलने वाले बोल और कार्य अनुचित होते हैं जिनमें शक्ति, दृढ़ विश्वास और स्पष्टता की कमी होती है। यह सुनिश्चित करने के लिए कि हम "इमोशनल बैगेज" का प्रेशर न रखें, हमारे प्रेशर इक्वेशन (सीरीज के पहले मैसेज में शेयर किया गया) के अनुसार, हमें उन सभी गलत धारणाओं को बदलने की जरूरत है, जो कि हमारे दबाव का मूल कारण हैं और ऐसा करने पर हम अपने जीवन में आने वाले अनचाहे पलों के फोर्स को सहन करने की क्षमता बढ़ा पाएंगे। अक्सर हम सभी ऐसे थॉट्स क्रिएट करते हैं जो हमारे इस बिलिफ पर निर्धारित होते हैं कि, सफलता और असफलता क्या है, जीत क्या है और हार क्या है। हालाँकि हम ऐसी मान्यताओं को सच मानते हैं, लेकिन हमें यहां यह ध्यान रखने की आवश्यकता है कि ये सच नहीं है। और ये हमारी "सत्यता के दृष्टिकोण" को प्रभावित करके दबाव की फीलिंग्स पैदा करते हैं जबकि दूसरी ओर, सच्चाई हमारी धारणाओं, मान्यताओं से काफी अलग और गहरी होती है।

ऐसी सभी सिचुएशन में जहां मेडिटेशन हमारी हमारे आंतरिक सहन शक्ति को बढ़ाता है वहीं दूसरी ओर आध्यात्मिक ज्ञान, समझ और बुद्धिमत्ता हमारी मान्यताओं को बदलने में बहुत हेल्प करती है। इसलिए प्रेशर फील करने के समय; स्वयं को एक मिनट के लिए पॉज दें, अपने मन में चलने वाले थॉट्स को एनालाइज करें, अपने पास्ट में जाकर उन धारणाओं को चेक करें जो इस विशेष क्षण में ऐसे विचार क्रिएट करने का मूल कारण हैं। और इन थॉट्स को चेंज करने के लिए फिर समझ और शक्ति की आवश्यकता होती है, जिसे हम आध्यात्मिक ज्ञान द्वारा प्राप्त कर सकते हैं। एक बार अगर हमारी मान्यताएं ठीक हो जाती हैं तो हमारे थॉट्स पैटर्न भी ऑटोमैटिकली बदल जाते हैं। हम सभी के द्वारा आमतौर पर क्रिएट किए गए थॉट्स; शायद मैं समय पर नहीं पहुंच पाऊंगा, या अगर मैं इस कार्य को सफलतापूर्वक पूरा नहीं कर पाता हूं तो मैं अपना अगला प्रमोशन खो दूंगा, यदि मैं इस निवेश स्कीम में मेरा पैसा डूबता है, तो मेरा परिवार मुझे एप्रिशिएट नहीं करेगा आदि। जरूरत है कि ऐसे सभी नेगेटिव थॉट्स को सुरक्षा, निर्भयता, धैर्य, शांति, विश्वास, दृढ़ संकल्प और निश्चिंतता जैसे पॉजिटिव थॉट्स में चेंज किया जाए।


Chania