Friday, May 7th, 2021 Login Here
रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर बेटा चाहता था ऐश का जीवन जीने के लिए जमीन बेचना, माॅ ने मना किया तो कर दी हत्या कोविड की मार ने तोड़ी आम लोगों की कमर, बिगाडा मध्यवर्गीय परिवार का बजट योग बना रहा निरोग, कोरोना से जीती जंग आपदा में गायब धरती के भगवान! एक दर्जन डाक्टरों को नोटिस अग्रवाल समाज द्वारा सवा लाख महामृत्युंजय जाप एवं नवचंडी अनुष्ठान हुआ आरंभ अग्रवाल समाज सोमवार से सवा लाख महामृत्युंजय जप एवं नवचंडी अनुष्ठान का आयोजन करेगा लापरवाहीं- कोरोना लेकर बाजार में घूम रहे संक्रमित, चार महिने में नहीं बन पाया सवा दो सौ मीटर का नाला दूकान का शटर बंद लेकिन अंदर मिले ग्राहक हर दिन आॅक्सीजन आने का दावा लेकिन खत्म नहीं हो रहीं मारा-मारी *रजिस्ट्री की गाइड लाइन 30 जून तक यथावत* MP में 1 मई से शुरू नहीं होगा वैक्सीनेशन पार्ट-3:2.5 लाख डोज की पहली खेप 3 मई तक मिली तो 18+ लोगों को 5 मई से लगेगा टीका, 19 हजार लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन सोमली नदी को पार कर मंदसौर की तरफ आगे बढा चंबल का पानी

मंदसौर निप्र । नगर पालिका अध्यक्ष प्रहलाद बंधवार की हत्या के मामले की जांच के लिये राज्य शासन के निर्देश पर बनी एसआईटी ने मंदसौर पहुॅचने के बाद लगातार दूसरे दिन हत्याकाण्ड की गहन पड़ताल की । टीम ने सुबह 9 बजे से कंट­ोल रुम पर इस मामले मेंचर्चा करना शुरु की, करीब 10 घण्टे तक 8 लोगो से गहन चर्चा की गई । इस दौरान टीम आरोपी मनीष बैरागी के घर भी पहुॅची उसके भाई से वहां चर्चा की, बाद में उसे कंट­ोल रुम बुलाकर भी चर्चा की गई । इस पड़ताल के दौरान टीम ने नगर पालिका के अधिकारियों से लेकर भाजपा के नेताओं और उनसे जुड़े नजदीक के लोगो से लम्बी बातचीत की ।
नगर पालिका अध्यक्ष प्रहलाद बंधवार के पुत्र नरेन्द्र बंधवार द्वारा दो लोगो पर संदेह जाहिर करने के बाद एसआईटी ने अपनी जांच का एंगल इस तरफ भी मोड़ा है, हालंाकि भाजपा के दो बड़े नेता कौन है इसका कोई सुराग एसआईटी को नही मिला है, लेकिन टीम ने अन्य कई बिंदूओ को लेकर विभिन्न लोगो से चर्चा की । हालांकि एसआईटी के प्रमुख आईजी श्रीनिवास वर्मा मंगलवार को वापस चले गये थे लेकिन उनकी टीम के चार सदस्यों ने मंदसौर में ही रहकर जांच के बिंदूओ पर काम किया । सुबह 9 बजे से स्थानीय पुलिस कंट­ोल रुम पर उन्होने विभिन्न लोगो से जांच की । सबसे पहले कोमल बाफना को उन्होने बुलाया जिससे उन्होने करीब 1 घण्टे तक कई चीजों पर बातचीत की, इसके बाद सुनील जैन,  किशन और मनीष ने जिस गुमटी का उल्लेख किया था उसके संचालक गोपाल मंगोलिया और सुमित साहू से चर्चा की । इसके बाद टीम ने नपा के इंजिनियर राजेश उपाध्याय को भी तलब किया उनसे भी कई चीजों पर जानकारी ली । एसआईटी ने अण्डर ब्रीज का निर्माण देख रहे रेल्वे के इंजिनियर श्री चौहान को भी तलब किया और उनसे भी हत्याकाण्ड को लेकर बातचीत की । इसके बाद आरोपी मनीष बैरागी के भाई मनोज बैरागी को भी बुलाकर चर्चा की । इस तरह दो दिन में करीब 20 लोगो से एसआईटी चर्चा कर चुकी है ।
सुत्रों की माने तो एसआईटी ने आरोपी मनीष बैरागी के घर पर भी काफी पड़ताल की है, वहां भी कई चीजों को टटोलने की कोशिश एसआईटी ने की । जहां सदिग्ध लगा उन चीजों पर आरोपी मनीष के भाई मनोज बैरागी और अन्य परिजनों से पुछताछ की । हालांकि अब तक कोई ठोस जानकारी एसआईटी के सामने नही आ रही है लेकिन जानकारों की माने तो दो दिन की पुछताछ के आधार पर एसआईटी ने जो तथ्य इकठ्ठा किये है उस पर अब टीम मंथन करेगी । इसके बाद आरोपी मनीष बैरागी से पुछताछ की योजना बनायेगी । एसआईटी का साफ कहना है कि यदि आवश्यकता लगी तो न्यायालय में आवेदन देकर अनुमति लेगे और मनीष बैरागी से चर्चा करेंगे । फिलहाल टीम की जांच चल रही है ।

Chania