Monday, February 26th, 2024 Login Here
गरीब के जीवन से कष्टों को मिटाना प्रदेश सरकार का लक्ष्य-डॉ यादव चिकित्सक पर हुई कार्रवाहीं का डाक्टरों व सिंधी समाज ने किया विरोध किरायेदारों से अनजान पुलिस, मकान मालिक भी लापरवाह नवनिर्वाचित राज्यसभा सांसद बंशीलाल जी गुर्जर का मंदसोर शहर में होगा भव्य स्वागत ट्रक में लहसुन के नीचे छुपाकर रख 1031 किलो डोडाचूरा जब्त, ड्राइवर गिरफ्तार मुख्‍यमंत्री डॉ.मोहन यादव आज नीमच में 752 करोड से अधिक के कार्यो का लोकार्पण एवं भूमिपूजन करेंगे 36 घंटे में पुलिस ने किया अन्तरॉज्जीय लूटेरों को गिरफ्तार मदिरा दुकानों के नवीनीकरण आवेदन 22 फरवरी तक करें पांच साल के इंतजार के बाद आज से मंदसौर में प्रारंभ होगा पासपोर्ट कार्यालय मध्यप्रदेश से राज्यसभा के पांचों प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित; 4 सीट बीजेपी, एक कांग्रेस के खाते में 133 किमी लंबे मार्ग में 14 किमी लंबा दूसरा रेलवे ट्रैक तैयार साँप भगाने के लिए टैंक में पेट्रोल डाला, तीली जलाते ही धमाका हुआ, दम्पत्ति झुलसे नदियॉ को छलनी करने का खेल चल रहा,माफियाओं पर नही लग पा रही नकेल सिंगिग स्टार बनने के चक्कर मे लोग हो रहे शिकार संसद रत्न पुरस्कार से सम्मानित होने वाले सांसदों को राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ने बधाई दी
नरेन्द्र मोदी के स्वच्छता अभियान को मंदसौर नगर पालिका ने पलिता लगा दिया। एक साल पहले जहां शहर 24 स्थान पर आया था लेकिन लॉखों रू खर्च होने के बाद भी शहर अपनी पिछली रैंक को कायम नहीं रख पाया और सीधा 104 वे स्थान पर पहुंच गया लेकिन मंदसौर के जिला अस्पताल में ईलाज करने के  लिये डाक्टर नहीं है फिर भी कायाकल्प में 7 वे स्थान पर अस्पताल आया है क्योंकि बाकी व्यवस्थाओं में यहां के जिम्मेदारों ने लगातार कोशिश की और अस्पताल को पिछड़ने नहीं दिया।जबकी नगर पालिका के पास बजट से लेकर तमाम संसाधन होने के बावजूद शहर की रैकिग को नहीं बचाया जा सका।
मंदसौर शहर को साफ और स्वच्छ रखने के लिये नगर पालिका के कारिन्दे केवल ढिंढोरा पिट रहे है, कागजों में काम हो रहा है लॉखों रू बर्बाद कर दिये लेकिन स्वच्छता के नाम पर हुआ कुछ नहीं। न तो शहर में कहीं से कचरा हटा और ना ही सफाई की समुचित व्यवस्था हो पाई और ना ही जनता को जागरूक बनाने की दिशा में कोई काम हो पाया है। नपा के कारिन्दों ने केवलअत्याधुनिक शौचालय बनाने के नाम पर लॉखों रू बर्बाद कर दिये । स्वच्छता के नाम पर कागजी जादुगरी काम नहीं आई और मंदसौर शहर स्वच्छता में पिछड़ गया। जबकी जिला अस्पताल में भले ही डाक्टर नहीं है लेकिन बाकी व्यवस्थाओं मे ंअस्प्ताल को नहीं पिछडने दिया गया जिसके चलते अस्पताल 7 वे स्थान पर आया है।
मंदसौर नगर पालिका जब स्वच्छता के नाम पर ढिंढोरा पिट रहीं थी तभी मंदसौर शहर की अयोध्या बस्ती के नागरिकों ने तत्कालिक सीएमओं को हकीकत से रूबरू करवा दिया था और यहां तक कह दिया था कि एयर कंडिशनर गाड़ी में बैठकर स्वच्छता का मिशन कारगर नहीं होगा इसके लिये जमीनी हकीकत को जानना पड़ेगा लेकिन जिम्मेदारों ने ध्यान नहीं दिया हालांकि अब सीएमओं भी बदल चूके है । लाखों रू खर्च होने के बाद भी शहर स्वच्छता में पिछड़ गया।
चार साल से लगातार प्रगति कर रहा अस्पताल
मंदसौर । जिला चिकित्सालय मंदसौर को काया कल्प योजना के अंतर्गत मध्य प्रदेश के 51 जिलों की सूची में 79 अंक प्राप्त कर सातवां स्थान प्राप्त हुआ है । जिला चिकित्सालय मंदसौर ने लगातार वर्ष 2015 से अब तक उत्तरोत्तर प्रयास जारी रखे और लगातार अंक तालिका में अपने अंकों को बढ़ाते हुए, इस पायदान पर अपनी स्तिथि मजबूत करी है।
उक्त आशय की जानकारी देते हुए सिविल सर्जन डॉ ए. के. मिश्रा ने बताया कि विगत कई वर्षों र्से जिला चिकित्सालय के कायाकल्प का कार्य निरंतर जारी है और वर्तमान में भी मरीजो की सुविधाओं में किसी प्रकार की कमी न हो ऐसे प्रयास अस्पताल प्रबंधन करता आ रहा है । मरीजो के लिए नए वार्ड, नए पलंग, नए हॉल एवम साफ सफाई का विशेष ध्यान दिया जा रहा है ओर आने वाले समय मे ओर निर्माण कार्यो की योजना चलन में है । शासकीय योजनाओं से कोई भी मरीज वंछित न हो ऐसे प्रयास भी जारी है । इसी का परिणाम है कि शासन की कायाकल्प योजना में मध्यप्रदेश के 51 जिलों की सूची में 79 अंक प्राप्त कर मंदसौर जिले चिकित्सालय ने 7 व स्थान प्राप्त किया है । 2015 से निरंतर अपने अंको में बढ़ोत्तरी करते हुए जिला चिकित्सालय ने ये मुकाम हासिल किया है ।
डॉ मिश्रा ने बताया कि जल्द ही जिला चिकित्सालय की ऑॅब्सट­क्टिव आईसीयू वार्ड की सौगात मिलने वाली है ओर साथ ही पुराने वार्डो का जीर्णोध्दार भी प्रगति पर है,जिसमे मरीजों की सुविधाओं का भी विस्तार देखने को मिलेगा ।

- मंदसौर शहर निश्चित रूप से स्वच्छ है लेकिन शायद हम टीम को दिखाने में सफल नही हो पाए है । आगे और अच्छा करने की कोशिश करेंगे।
आरपी मिश्रा, सीएमओ नगरपालिका
Chania