Monday, May 17th, 2021 Login Here
कोरोना के गंभीर रोगियों का उपचार सर्वसुविधायुक्त बड़े अस्पतालों में होना जरूरी पुलिस और डाक्टर की पकड़ में कोरोना से सुरक्षित आम आदमी लेकिन लापरवाह लोग बन रहे मुश्किल मंदसौर के मनोज ने कर दिया 200 रूपऐ में आॅक्सी फ्लो मीटर का निर्माण वायरल विडियों ने मंदसौर की दादी को बना दिया स्टाॅर मंदसौर जिला चिकित्सालय में अक्षय तृतीया से सीटी स्कैन मशीन से जांच होना हुई प्रारंभ वित्त मंत्री श्री देवड़ा के निर्देश पर गृह मंत्रालय ने मल्हारगढ़ ब्लॉक कोविड-19 आपदा प्रबंधक मैनेजमेंट कमेटी का गठन कलेक्टर द्वारा किया गया *शामगढ़ में 85 वर्ष के बूढे व्यक्ति का घर से मृत अवस्था मे मिला शव* खुशियों की दास्तां /मल्हारगढ़ कोविड केयर सेंटर से आज 3 व्यक्ति स्वस्थ होकर घर गए प्रशासन ने मीटिंग बुलाकर ईद घर पर ही मनाने हेतु समझाइश दी । अपने अपने मोहल्ले मैं सख्ती से कर्फ्यू का पालन करवाना और दवाई वितरण करवाना हम सबकी जवाबदेही है: श्री पँवार *जिले में रक्त स्त्रोतम संस्थान द्वारा कराया गया पहला प्लाज्मा डोनेशन जनसारंगी --प्रसंगवश./ सर्वसमावेशी समाज के संस्थापक भगवान परशुराम. दो लाख खर्च होने के बाद भी नहीं बनी खाद, पिट बन गऐ डस्टबिन हॉटस्पॉट में बेखौफ चल रहीं सब्जी मंडी, लोगों की जमा हो रहीं भीड़ महामारी से निपटने आर्थिक सहयोग में आगे आ रहे नागरिक

कोरोना का सेम्पल लिया,पास में ही रहते थे विदेश से आये दंपत्ति, क्वारन्टाइन हो चुका था पूरा
मन्दसौर निप्र। मन्दसौर के दशरथ नगर में दवा व्यापारी बुजुर्ग की मौत से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई। मृतक के पड़ोस में ही 8 मार्च को विदेश से लौटे दंपत्ति रहते थे लेकिन उनके क्वारन्टाइन की अवधि पूरी हो चुकी थी,उनमे कोरोना के कोई लक्षण नही पाए गए थे। उनके पास रहने वाले जिस वृद्ध की मौत हुई वे भी हार्ड और फेफड़े की बीमारी से ग्रस्त थे।ऐसे में एहतियातन स्वास्थ्य विभाग ने मृतक का सेम्पल लिया। उनके पूरे परिवार की भी जांच की और पूरे इलाके को सेनेटाइज करके पूरा लॉक डाउन कर दिया गया है।
जानकारी के अनुसार दशरथ नगर के निवासी नाथूलाल  ( पिपलिया कराडिया  वाले ) का बीती रात से स्वास्थ्य बिगड़ जाने से उन्हें सिद्धिविनायक अस्पताल में  भर्ती कराया गया था, उनकी स्थिति बिगड़ती देख स्वास्थ्य विभाग ने उन्हें भोपाल के कोरोना  सेंटर में भर्ती करने निर्णय लिया और तमाम सुविधाओंं केेे बाद उन्हें मंदसौर से रेफर किया गया था।  लेकिन रास्ते में ही  उनकी मौत हो गई।

सिविल सर्जन डॉ अधीर कुमार मिश्रा के अनुसार  अनुसार बुजुर्ग हार्ट और फेफड़े सहित अन्य बीमारियों से भी ग्रस्त थे लेकिन फिर भी  एहतियातन उनका सेम्पल कोरोंना की जांच के लियेे भेजा गया।
 बताया जाता है की मृतक के पड़ोस में ही रहने वाले एक दंपत्ति विदेश जाकर आये हैं। लेकिन उनकी आईसोलेशन की 14 दिन की अवधि पूरी हो चुकी है। उन्हें किसी तरह की कोई दिक्कत नही थी फिर भी प्रशासन पूरी एहतियात बरत रहा है और पूरे क्षेत्र को सख्त लॉक डाउन कर दिया गया है।
 
Chania