Saturday, May 8th, 2021 Login Here
भोईवाडा की घटना के बाद मंदसौर में पुलिस का फ्लेग मार्च जावरा विधायक से पंगा और मंदसौर के हिस्सें की आॅक्सीजन रोकना भरी पड़ा कलेक्टर को, विधायक सिसोदिया की सीएम के समक्ष कड़ी आपत्ति के बाद विवाह की खुशी में भूल गए लाॅकडाउन के आदेश/ शादि में मेंहमान बन कर पहुंच गऐ एसडीएम और टीआई बीस दिन लाॅकडाउन के बाद भी कोरोना काबू नहीं हुआ तो अब सीएम के निर्देश के बाद मंदसौर में भी शुरु हुआ सख्ती वाला लॉक डाउन कोरोना के तांडव की हकीकत बयां करती मंदसौर के शमशान की सच्चाई ! कोरोना से जंग में भारतीय जैन संघठना ने नृत्य नाटिका के माध्यम से दिया सकारात्मकता का सन्देश रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर बेटा चाहता था ऐश का जीवन जीने के लिए जमीन बेचना, माॅ ने मना किया तो कर दी हत्या कोविड की मार ने तोड़ी आम लोगों की कमर, बिगाडा मध्यवर्गीय परिवार का बजट योग बना रहा निरोग, कोरोना से जीती जंग आपदा में गायब धरती के भगवान! एक दर्जन डाक्टरों को नोटिस अग्रवाल समाज द्वारा सवा लाख महामृत्युंजय जाप एवं नवचंडी अनुष्ठान हुआ आरंभ अग्रवाल समाज सोमवार से सवा लाख महामृत्युंजय जप एवं नवचंडी अनुष्ठान का आयोजन करेगा लापरवाहीं- कोरोना लेकर बाजार में घूम रहे संक्रमित,

नीमच । मंदसौर के  कालाखेत स्थित राधा स्वीट्स के संचालक दिनेश अग्रवाल भी लॉक डाउन के चलते अपने ससुराल नीमच में साले की लड़की के विवाह समारोह की खुशियों में सम्मिलित नही हो पाये ।उल्लेखनीय है कि अक्षय तृतीया पर नीमच के बघाना में भी अग्रवाल समाज में एक विवाह संपन्न हुआ ।
नीमच में रहने वाले साले पवन गर्ग निवासी बघाना की  पुत्री रुचि का  विवाह वही के राजेन्द्र सिंहल के पुत्र प्रतीक  के साथ तय हुआ था । पिछले करीब 6 महीने से भी ज्यादा समय से दोनों परिवार धूमधाम से विवाह करने की तैयारी कर रहे थे मंदसौर से भी सिंहल परिवार इस विवाह समारोह में शामिल होने के लिए तैयारियों में जुटा हुआ था लेकिन लॉक डाउन ने सारी तैयारियों को धरा रख दिया ना मंदसौर से कोई जा पाया और ना ही विवाह धूमधाम के साथ हो पाया। केवल दोनों परिवारों के पांच- पांच लोगों को विवाह में सम्मिलित होने की अनुमति मिली। ना बैंड- बाजे  बजे और ना ही  घोड़े पर दूल्हा चढ़ा, सारी रस्में घर पर ही सादगी से हुई और विवाह संपन्न हो गया।

Chania