Friday, May 7th, 2021 Login Here
रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर बेटा चाहता था ऐश का जीवन जीने के लिए जमीन बेचना, माॅ ने मना किया तो कर दी हत्या कोविड की मार ने तोड़ी आम लोगों की कमर, बिगाडा मध्यवर्गीय परिवार का बजट योग बना रहा निरोग, कोरोना से जीती जंग आपदा में गायब धरती के भगवान! एक दर्जन डाक्टरों को नोटिस अग्रवाल समाज द्वारा सवा लाख महामृत्युंजय जाप एवं नवचंडी अनुष्ठान हुआ आरंभ अग्रवाल समाज सोमवार से सवा लाख महामृत्युंजय जप एवं नवचंडी अनुष्ठान का आयोजन करेगा लापरवाहीं- कोरोना लेकर बाजार में घूम रहे संक्रमित, चार महिने में नहीं बन पाया सवा दो सौ मीटर का नाला दूकान का शटर बंद लेकिन अंदर मिले ग्राहक हर दिन आॅक्सीजन आने का दावा लेकिन खत्म नहीं हो रहीं मारा-मारी *रजिस्ट्री की गाइड लाइन 30 जून तक यथावत* MP में 1 मई से शुरू नहीं होगा वैक्सीनेशन पार्ट-3:2.5 लाख डोज की पहली खेप 3 मई तक मिली तो 18+ लोगों को 5 मई से लगेगा टीका, 19 हजार लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन सोमली नदी को पार कर मंदसौर की तरफ आगे बढा चंबल का पानी

मंदसौर । सात वर्षों पूर्व मंदसौर के जनकुपुरा गणपति चौक निवासी श्री ज्वेलर्स के संचालक प्रदीप पिता ओमप्रकाश सोनी कि राजस्थान के प्रतापगढ़ के समीप 4 लोगों ने मिलकर हत्या कर दी थी और साक्ष्य मिटाने की नियत से शव को  जलाकर जंगल में फेंक दिया था । सात  वर्षों तक न्यायालय में चले मामले में सुनवाई के बाद आज 31 अक्टूबर को एडीजे न्यायालय बांसवाड़ा में महत्वपूर्ण फैसला सुनाते हुए हत्या करने वाले दो आरोपी को आजन्म कारावास एवं दो अन्य आरोपियों को सात सात वर्ष की सजा सुनाई ।
 अधिवक्ता जितेंद्र सिंह सिसोदिया ने बताया कि 10 अक्टूबर 2013 को मंदसौर के गणपति चौक निवासी प्रदीप सोनी को प्रतिक भंडारी, नंदकिशोर फुलवानी ,गोपाल ग्वाला व दशरथ उर्फ दस्यु  प्रदीप सोनी से चर्चा करने हेतु प्रदीप की शिफ्ट कार से  प्रतापगढ़ की ओर गए और रास्ते में प्रतापगढ़ के निकट माल्याखेड़ी  के यहां पर प्रदीप का रस्सी से गला घोट कर हत्या कर दी और हत्या करने के बाद साक्ष्य मिटाने की नियत से शव को बांसवाड़ा के चिड़ियावासा के जंगल में जलाकर फेंक दिया और कार लेकर फरार हो गए। कार  उदयपुर में पार्किंग में मिली मोबाइल कहीं और मिला था ।इस पूरे घटनाक्रम में  प्रतिक भंडारी, नंदकिशोर फुलवानी, गोपाल ग्वाला एवं दशरथ उर्फ दस्यु चारो  के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज हुआ था। सात वर्षों तक मामला  बांसवाड़ा  एडीजे न्यायालय में चलता रहा। माननीय न्यायाधीश ने  आज  31 अक्टूबर को एक महत्वपूर्ण फैसला सुनाते हुए प्रदीप सोनी हत्याकांड में प्रतिक भंडारी एवं नंदू फुलवानी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई  तथा गोपाल ग्वाला एवं दशरथ उर्फ दस्यु को सात सात  वर्ष की सजा सुनाई। प्रदीप सोनी की ओर से माननीय न्यायालय में पैरवी मंदसौर के युवा  ऐडवोकेट जितेंद्र सिंह सिसोदिया ने की । शासन की शासकीय अधिवक्ता के रूप में बांसवाड़ा के सादिक खान पठान ने पैरवी की ।
Chania