Sunday, August 1st, 2021 Login Here
छापामार कार्रवाहीं में यूरिया की कालाबाजारी करते पकड़े गऐ व्यापारी जहरीले जाम से बही के चैकीदार की भी मौत, एसआईटी पहुंची जांच के लिए एम्बुलेंस स्टेण्ड पर जमाया निजी टैक्सियों ने कब्जा, पुलिस ने हटवाया मंडी में हम्मालों ने कर दी हड़ताल, चर्चा के बाद काम पर लोटे मंगलवार को बादल हुए साफ, ठण्डक रहीं बरकरार जहरीली शराब कांड, एक के बाद एक तीन और मौतों के बाद आंकड़ा पहंुचा 10 पर सावन का पहला सोमवार, शिवमय हुआ पशुपति का शहर लगातार बारिश से शिवना लबालब, शिव के अभिषेक से दूर रह गई मैय्या अब मंदसौर के आसमान पर उडान भर तैयार होंगें पायलट जहरीली शराब से एक और की मौत, चार गंभीर में से एक रेफर महिनों के बजाय सालों में पूरे हुए सेतु में घटिया निर्माण का टांका फिर भी कार्रवाहीं नहीं शराब पीने के बाद तीन की मौत , चार घायल समर्थ गुरु से जुड़े जीवन मे अज्ञानता होगी दूर -आचार्यश्री आस्था के पुष्प से गुरू को नमन, आज से प्रारम्भ होगी शिवशंकर की आराधना साठ साल बाद गांधीसागर झील का लाभ किसानों को, डेढ़ लाख हेक्टेयर में सिंचाई

कोरोना वायरस से बचने के लिए नहीं बरतना चाहते सावधानी
मंदसौर निप्र कोरोना वायरस वैश्विक महामारी बन चुका है घर में रहकर ही इससे बचा जा सकता है बावजूद इसके शहरवासी समझने के लिए तैयार नहीं है मंदसौर के समीप के जिले भीलवाड़ा में पहले से ही हालात खराब है और अब मध्यप्रदेश के इंदौर जिले में भी स्थिति बेकाबू होती जा रही है वहां लगातार बढ़ रहे कोरोना के मरीज के कारण पूरा लॉक डाउन कर दिया गया है। मंदसौर में अब तक कोरोना के कोई भी पॉजिटिव मरीज नहीं है हमारी जरा सी लापरवाही शहर को भयावहता की तरफ ले जा सकती है, बावजूद इसके शहरवासी समझने के लिए तैयार नहीं है जरूरी सामानों की खरीद के दौरान लगातार हो रही भीड़भाड़ को रोकने के लिए प्रशासन ने शहर के अनेक इलाकों को नो व्हीकल झोन घोषित किया लेकिन वाहन चालक अब इन मुख्य मार्गो से बचते हुए गली मोहल्लों से निकल रहें है।
शहर को नो व्हीकल जोन करते ही सदर बाजार धान मंडी सम्राट मार्केट जैसे क्षेत्रों में आज रोज की अपेक्षा कम भीड़ भाड़ लिखी गई कई लोग जरूरी सामानों की खरीदारी के लिए पैदल ही बाजार पहुंचे थे लेकिन जिन समाज के दुश्मनों को बाजार में बेवजह ही घूमना है उन्होंने घूमने के लिए गली मोहल्लों का सहारा ले लिया मुख्य मार्गों पर नो व्हीकल झोन होने के कारण बैरिकेडिंग कि हुई थी। तो इन लोगों ने निकलने के लिए गली मोहल्लों का आसरा ले लिया। गलियों के रास्ते निकल कर मुख्य मार्ग तक पहुंच रहे थे। जिसके कारण पूरे दिन इन गली- मोहल्लों में वाहनों की आवाजाही चलती रही।
हालांकि प्रशासन के कदम से आज बाजार में रोज की अपेक्षा बहुत कम ही भीड़भाड़ रही लेकिन अब इन समाज के दुश्मनों से निपटने के लिए पुलिस और प्रशासन को नया रास्ता चुनना पड़ेगा।
जरूरी सामान की आड़ में खुल गई पान,गुटखा, इलेक्ट्रिक और मोबाइल की दुकानें
कोरोना की महामारी को वाकई मंदसौर जिले के लोग नहीं समझ रहे हैं, जिले के शामगढ़ का दृश्य देखकर तो यही लग रहा है। प्रशासन ने आम जनता को किसी तरह की तकलीफ नहीं हो इसके लिए जरूरी सामान किराना, सब्जी, दूध की दुकानें खोलने की अनुमति दी है,लेकिन इसकी आड़ में पान, गुटखा, इलेक्ट्रिक और मोबाइल तक की दुकानें खुल गई। यह दुकानदार बिना किसी हिचक के पूरी तरह बेपरवाह होकर अपनी दुकानों को खोल कर बैठ गए और लॉक डाउन का जमकर मखौल उड़ाया।
सेवा की आड़ में बेच दी 10 दिन पुरानी नमकीन
कुछ लोगों के लिए तो सेवा भी धंधा होती है ऐसा ही वाकया सोमवार की सुबह देखने को मिला। प्रशासन ने जरूरी सामान खरीदने की छूट क्या दी नमकीन की दुकान भी खुल गई और वहां रखा 10 दिन पुराना नमकीन भी सेवा की आड़ में बेच दिया गया। ज्ञातव्य है कि 22 मार्च से ही मंदसौर लॉक डाउन है ऐसे में नमकीन की दुकानों पर कोई भी नया नमकीन बना ही नहीं है।जो भी नमकीन है वह 22 मार्च से पहले का ही है ।बावजूद इसके सेवा की आड़ में धंधे बाज दुकानदारों ने इसे बेहिचक बेच दिया और आम लोगों ने खरीद भी लिया। ऐसे में शासन के खाद्य विभाग को इन दुकानों पर कार्रवाई करनी चाहिए।
Chania